Latest Post

एक दर्दनाक सत्यघटना से शुरूआत करते है

( पाटलिपुत्र आने के बाद नगर के प्रवेश के पूर्व एक भव्य प्रासाद को देखकर उस में प्रवेश कर किया । उस मंदिर के खंभे पर चित्र में अंकित स्त्री

( क्रमांक 1 से 6 तक मूलाधार चक्र ध्यान के मुताबिक ध्यान करने के पश्चात )   फिर विचार कीजिए कि दूर क्षितिज से गहरे नीले, Grey या Navy Blue रंग

नमस्ते मित्रों !   Faithbook के जरीए हम अरिहंत बनने की यात्रा में अग्रसर हो रहे हैं । दुनिया भर की और सभी पदवीयाँ, संपत्ति से, मेहनत से, बुद्धि से अर्जित की

सुबह पति जब तैयार होकर घर से बहार निकल रहा था, तब अंदर से उनकी श्रीमतीजी (पत्नी) आयी, उनके हाथ में केशर-बादाम-पीस्तावाला दुध रखा और पत्नी ने कहा “आप यह

Hello friends ! We are talking about 20 steps to be an Arihant. You probably know what Arihant is called. Otherwise, let me tell, those who have defeated all their enemies,

  "सहसा न विदधीत क्रियाम्, अविवेकः परमापदां पदम् ।  वृणुते हि विमृश्यकारिणं गुणलुब्घा: स्वयमेव सम्पद:।।"   छगन : अरे मगन ! तुम क्या कर रहे हो मगन : मैं कुछ भी नहीं करता

त्रिशलाराणी शंकित हो गये क्योंकी गर्भ का स्पंदन अब बंद हो गया है। जीवन की कल्पना स्पंदन से होती है जीवन का अनुभव तो निःस्पंद से मिलता है। त्रिशलाराणी के गर्भ में जो रचना

एक्स्ट्रा प्लॉट में कचरा एकत्र हो गया हो तो उसकी बुरी असर बंगले पर होती हुई स्पष्ट दिखाई देती है। रोज मिलने वाले दो-चार घण्टे के खाली समय का उचित

आज से वर्षों पहले यदि किसी व्यक्ति को विरोध करने का ज़ुनून सवार हो जाता था, तो वह गमुनाम बनें अपनी अन्तर्व्यथा रूप पत्रिकाएँ छपवाकर उनके गट्ठे व्याख्यान सभा, देहरासर

  Years ago, if a person had a passion to protest, then he without revealing his name would leave his printed interlude stories or subject matter in lecture halls or wherever

कौरव के कुल में पहला गर्भ मेरी माता गान्धारी को रहा, किन्तु मैं इतना पापी की तीस माह तक प्रसव नहीं हुआ। मेरी माता ने प्रसव हेतु अनेक प्रयास किए,

The first lady who could experience pregnancy in the entire Kaurav clan was my mother, Mata Gandhari. But I was so sinful that for 30 weeks I was not delivered.

  The history of Mahabharata is a long history of India. Other history has been changing, but it has not changed the history of Mahabharata, hence the review of Ramayana and

  We are all on a marvellous journey to become Arihants. An arihant is a soul who has conquered inner passions such as attachment, anger, pride & greed. Also known as
× CLICK HERE TO REGISTER